शनिवार, जून 25, 2011

मैं जवानी में अपने आपको " विनोद खन्ना " से कम नही समझता था ।

आशिक पुकारो । आवारा पुकारो । मैंने की है मुहब्ब्त दिल से । अब ना रूकेंगे हम किसी से । मैंने की है मुहब्ब्त दिल से ।
क्या हाल है पप्पू ? तुमने पिछ्ली बार मेरी पहली बार फ़ोटो छापकर मेरा दिल खुश कर दिया । आखिर मैं तेरा अंकल हूँ । असल में मैं जगत अंकल हूँ । मैं हूँ अंकल न. 1 ।
मैं आज तेरे को बडी दिलचस्प फ़ोटो भेज रहा हूँ । ये फ़ोटो खींचने में भी एक कहानी है । तू तो जानता ही है कि मैं भोपाल का रहने वाला हूँ । अरे मैं तो सूरमा भोपाली हूँ । मैं एक दिन बस अड्डे के पास वाले पुराने पुल के उपर से जा रहा था । मैं अपने स्कूटर पर था ।
तभी अचानक मेरे सामने जा रहे आटो वाले ने अचानक ब्रेक मार दी । मैं उसके बिल्कुल पीछे था । मुझे भी फ़टाफ़ट ब्रेक लगानी पडी । मैं गिरते गिरते बचा । मैं स्कूटर से उतरा । और सीधा जाकर उस साले आटो वाले के पिछ्वाडे पर लात मारी ।
आटो वाले ने मुझे कहा - क्या हो गया ?
मैंने सीधा ही एक चांटा उसको मारा । और कहा - तेरी ......"
तब वो आटो वाला बोला - ओये भाईसाहब......"
मैंने एक चांटा और मारा और कहा - तेरी ब......."
आटो वाला फ़िर बोला - बात सुन लो भाईसाहब ! गाली मत देना बता देता हूँ ।
( शायद उसके कहने का मतलब ये था कि बेशक चांटे लगा लो । लेकिन गाली मत देना । आटो ड्राइवर हूँ । तो क्या हुआ । आखिर मेरी भी तो कोई इज्जत है - हो हो हो हो हो हो )
इतने में साला कोई और बूढा वहाँ से जा रहा था । उसने रूककर कहा - हाँ भई क्या बात हो गयी ?
मेरा मूड पहले से ही खराब था । मैंने सीधा ही कहा - तू कौन है बे पूछने वाला ?
वो तो साला चुपचाप वहाँ से खिसक लिया ( साला महात्मा गांधी की औलाद )  इतने में आटो वाला भी भाग गया था ।

तब मैं भी स्कूटर उठाकर पुल से नीचे उतरा । मैं अपना मूड ठंडा करने के लिये रेहडी पर नींबू पानी पीने के लिये रूक गया । तभी मुझे दूर से 1 अजीब सा आदमी आता दिखा । मैंने उसकी फोटो खींच ली ।
बडी अजीब सी हँसी वाली फोटो है । जो देखेगा खुश हो जायेगा ।
अच्छा पप्पू ! मैंने पहले ठीक से ध्यान नहीं दिया । मैं पिछ्ले काफ़ी दिनो से ब्लाग ठीक से पढ नही पाया था । मैं किसी जरूरी काम में फ़ँसा हुआ था । अब अचानक 2 दिन पहले मैंने 1 तेरे लेख को देखा । तेरे को कोई खस्सी टायप आदमी कुछ पूछ रहा था । उसको शायद कुछ चाहिये था । कह रहा था कि फ़ूल चाहिये या गमला चाहिये ?
पप्पू डरना मत । तेरा अंकल विनोद त्रिपाठी सडक छाप गुन्डागर्दी का शेर है । जवानी में मैं 400 बैठक और 250 डन्ड लगा लेता था । अरे मध्य प्रदेश का हूँ । असली घी खाकर बडा हुआ हूँ । 
इन सालों की तरह नकली मिलावटी टमाटर सौस खाकर बडा नही हुआ । उसकी शक्ल देखकर तो लगता है कि वो खुद अपनी पतलून को ही सही नहीं कर पाता होगा ।
इधर मैं 50 साल के आसपास हूँ । फ़िर भी तेरी अभी भी 2 आन्टीया है । एक सरकारी और दूसरी गैर-सरकारी । तुम विश्वास नही करोगे । अभी भी मैं वैसे 6 चूहों पर अकेला भारी हूँ ।
मैं असली जिन्दगी में अकेला ही शक्ति कपूर । किरन कुमार और गुलशन ग्रोवर के बराबर हूँ । मैं अपने एरिया में अभी भी सडकछाप गुन्डागर्दी का त्रिदेव हूँ ।
अब कहूँ कि न कहूँ ......कसम सब्जी मन्डी की...... लेकिन आज कह ही देता हूँ । सुन ले पप्पु तेरा तो मैं अंकल हूँ । लेकिन मैं हर किसी का अंकल नही हूँ । मेरे पडोसी शर्मा जी की बेटी " लिजा " मेरे को एक दिन कहती ( जब मैं घर से बाहर खडा सिगरेट पी रहा था )  " अंकल टाइम क्या हुआ है ? "
तब मैंने कहा - धुत ! कौन अंकल । हम तो तुम्हारे फ़्रेन्ड है ।
हाय हाय पप्पु ! क्या करुँ । इलायची कूट के । लंगर लूट के । आजकल गर्मी बहुत है । कहीं दिल नहीं लगता । अब सुनो इस लेख के साथ ये नयी फोटो और साथ में मेरी वो वाली पुरानी फोटो भी.. ही ही ही छाप देना । यार फ़िर भी मेरे को इतना बुरा मत समझो । मैं जवानी में अपने आपको " विनोद खन्ना " से कम नही समझता था ।

********
प्रस्तुतकर्ता - श्री विनोद त्रिपाठी प्रोफ़ेसर । भोपाल । मध्यप्रदेश । ई मेल से ।

1 टिप्पणी:

ज़ाकिर अली ‘रजनीश’ (Zakir Ali 'Rajnish') ने कहा…

मेरे विचार में हर आदमी समझता है।

बस आजकल ट्रेंड थोडा चेंज हो गया है, अब निशाने पर शाहरूख, सलमान और रितिक हैं।

---------
विलुप्‍त हो जाएगा इंसान?
कहाँ ले जाएगी, ये लड़कों की चाहत?

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...